मध्य प्रदेश में 22 जनवरी को अवकाश घोषित : School me awkash

समस्त स्कूलों में मध्य प्रदेश में 22 जनवरी को अवकाश घोषित कर दिया गया है । मध्य प्रदेश शासन ने प्रदेश के समस्त शासकीय और अशासकीय विद्यालयों में अयोध्या में रामलला प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर 22 जनवरी को पूरे दिन का अवकाश घोषित कर दिया है । यह आदेश स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा उप सचिव मध्य प्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग के द्वारा जारी किया गया है । अब 22 जनवरी को होने वाले सम्पूर्ण कार्यक्रम को स्कूल में अध्ययनरत छात्र एवं अन्य कर्मचारी शिक्षक अपने स्तर से माना सकेंगे ।

मध्य प्रदेश में 22 जनवरी को अवकाश

22 जनवरी 2024 अवकाश के दिन क्या करें

सर्व विदित है कि अयोध्या में आगामी 22 जनवरी 2024 दिन सोमवार को होने वाले श्री राम लला प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के सीधे प्रसारण का आनंद उठाने के साथ सम्पूर्ण देश में विभिन्न आयोजन करने का आग्रह किया गया है । पूरे 500 वर्षों के इंतेजार के बाद श्री राम अपने घर में वापस आ रहे हैं । इस खुशी को सभी भारत वासियों के साथ सम्पूर्ण विश्व के सनातनी एवं अन्य राम भक्त एक दिवाली की तरह मना रहे हैं । सभी राम भक्तों से आग्रह किया गया है कि वे इस दिन अपने घरों की साफ सफाई कर दिए जलाएं और आतिशबाजी के साथ खुशियां मनाएं ।

मध्य प्रदेश में 22 जनवरी को अवकाश

22 जनवरी 2024 को अन्य कार्यालयों में आधे दिन का अवकाश

पूर्व में मध्य प्रदेश शासन ने एक आदेश जारी किया थे जिसके अनुसार प्रदेश के सभी कार्यालयों में आधे दिन का अवकाश दिया गया था। जिसमें कहा गया था कि प्रदेश अन्य विभागों में कार्यरत सभी कर्मचारी एवं अधिकारी दोपहर के 2.30 बजे तक स्वयं प्राण प्रतिष्ठा के साथ खुशियां मनाए जबकि 2.30 बजे के बाद अपने कार्यालयों में पुनः उपस्थित हों । स्कूलों के अलावा सभी विभागों में पूरे दिन के बजाए सिर्फ आधे दिन का अवकाश घोषित किया गया है ।

सम्पूर्ण विश्व के श्रीराम भक्तों से श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र का निवेदन

आगामी पौष शुक्ल द्वादशी, विक्रम संवत 2080, सोमवार (दिनांक 22 जनवरी 2024) के शुभदिन, हम सभी भक्तों के लिए एक अद्वितीय एवं ऐतिहासिक समय का संकेत है। इस दिन, प्रभु श्रीराम के बाल रूप की नूतन विग्रह का प्रतिष्ठापन होने जा रहा है, जो श्रीराम जन्मभूमि पर बन रहे नवीन मंदिर के गर्भगृह में विराजित किया जाएगा।

इस अद्वितीय घड़ी में, हम सभी को भगवान श्रीराम के इस नूतन स्वरूप की प्राण-प्रतिष्ठा में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो रहा है। यह संगीतमय और धार्मिक अवसर हमें भगवान के साथ एक होने का आनंद उठाने का अद्वितीय मौका प्रदान कर रहा है।

प्रभु श्रीराम का बाल रूप नूतन विग्रह, जो श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के भूतल में स्थित होगा, वहां के समस्त भक्तों के लिए एक अद्वितीय समय होगा जहां प्राण-प्रतिष्ठा का आयोजन सम्पन्न होगा। यह सांस्कृतिक आयोजन, जिसमें हम सभी मिलकर भगवान की कृपा को महसूस करेंगे, हमें भक्ति और आध्यात्मिकता की ऊँचाइयों तक पहुँचाएगा।

इस शुभ क्षण में, हम आप सभी को आमंत्रित करते हैं कि आप इस अद्वितीय दिन के महत्व को समझकर अपने समूह या समुदाय में विशेष आयोजन आयोजित करें और प्रभु श्रीराम की कृपा प्राप्त करें । आप सभी को इस अद्वितीय और महत्वपूर्ण समय में हमारे साथ शामिल होने के लिए आमंत्रित किया जाता है। इस दिन को हम सभी मिलकर एक यादगार और धार्मिक अनुभव में बदल सकते हैं जो हमें आनंद और शांति का अहसास कराएगा।

नवीन मंदिर के गर्भगृह में होने वाले प्राण-प्रतिष्ठा समारोह में भाग लेने के लिए आप सभी का स्वागत है। हम सभी संगठन, एकता और भक्ति के साथ इस साकार रूप में भगवान की पूजा अर्चना करेंगे। यह समारोह हम सभी के जीवन में नई ऊचाइयों और समृद्धि की ओर एक महत्वपूर्ण कदम होगा।

इस शुभ अवसर पर हम सभी को एकत्रित होकर भगवान के आशीर्वाद का अभास करने का सुनहरा अवसर मिला है। यह एक नया आरंभ है और हम सभी को इसे समृद्धि और सौभाग्य से भरा बनाने का संकल्प लेना चाहिए।

प्राण-प्रतिष्ठा के सामूहिक आयोजन में शामिल हों

इस अद्वितीय पौराणिक घड़ी में, हम सभी को एक अद्वितीय सामाजिक आयोजन में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जाता है। आप भी प्राण-प्रतिष्ठा के दिन (पूर्वाह्न 11.00 बजे से अपराह्न 01.00 बजे के मध्य) अपने ग्राम, मोहल्ले, कॉलोनी में स्थित किसी मंदिर में आस-पड़ोस के राम भक्तों को एकत्रित करके, भजन-कीर्तन करें, टेलिविज़न अथवा कोई पर्दा (LED स्क्रीन) लगाकर अयोध्या के प्राण प्रतिष्ठा समारोह समाज को दिखाएं, शंखध्वनि, घंटानाद, आरती करें, प्रसाद वितरण करें।

कार्यक्रम का स्वरूप और सामूहिक भक्ति

इस शुभ समय में, आपका समूह एक सामूहिक धार्मिक कार्यक्रम आयोजित कर सकता है, जिसमें भक्तों को एकत्र करके भजन-कीर्तन किया जा सकता है। आप अपने नजदीक के किसी मंदिर में भजन कीर्तन और पूजा विधि के साथ योजना बना सकते हैं। “श्रीराम जय राम जय जय राम” मंत्र का 108 बार सामूहिक जाप करें और साथ ही हनुमान चालीसा, सुंदरकांड, रामरक्षा स्रोत का भी सामूहिक पाठ कर सकते हैं ।

दूरदर्शन और अन्य मीडिया का सहयोग

अयोध्या में होने वाले भव्य प्राण-प्रतिष्ठा समारोह को आप अपने समुदाय के साथ साझा कर सकते हैं। इसके लिए आप टेलिविज़न या पर्दा (LED स्क्रीन) लगा सकते हैं ताकि आपका समुदाय इस महत्वपूर्ण समय का आनंद ले सके। इससे समुदाय में सामूहिक भक्ति भाव बढ़ेगा और प्राण-प्रतिष्ठा का सार्थक सामाजिक परिचय होगा।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top