Including Best of Five Yojna 3 Major Changes by MP Board

मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग के द्वारा 24 अगस्त 2023 को एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है जिसमें Best of Five Yojna समाप्त करना, CCLE लागू करना एवं गणित में दो विकल्प उपलब्ध करवाना शामिल है । उरोक्त महत्वपूर्ण तीन निर्णय निम्नलिखित हैं

  1. वर्तमान सत्र 2023 24 से कक्षा 9वी एवं दसवीं में सतत एवं व्यापक अधिगम एवं मूल्यांकन अर्थात CCLE प्रक्रिया लागू कर दी जाएगी ।
  2. वर्तमान शिक्षण सत्र 2023-24 में कक्षा 9वी में और अगले सत्र 2024 – 25 में कक्षा दसवीं में विद्यार्थियों को गणित के दो विकल्प उपलब्ध होंगे । पहला सामान्य गणित और दूसरा उच्च गणित ।
  3. CCLE अर्थात सतत एवं व्यापक अधिगम एवं मूल्यांकन और सामान्य गणित और उच्च गणित की विकल्प की कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए अगले सत्र 2024-25 से मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा में कक्षा नवमी एवं दसवीं की वार्षिक परीक्षा में पूर्व में प्राप्त अंकों की गणना में जो Best of Five yojna लागू की थी उसे पूरी तरह समाप्त कर दिया जाएगा ।
  4. उक्त दोनों  निर्णय बहुत महत्वपूर्ण है जिसमें CCLE को weightage दिया जा रहा है, गणित के दो विकल्प रखे गए हैं एवं कक्षा दसवीं में जो बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति से रिजल्ट बनाया जाता था उसे अगले सत्र से समाप्त कर दिया जाएगा । यह बहुत ही क्रांतिकारी परिवर्तन है ।
Best of Five Yojna

MP Board Apply CCLE in 9th and 10th Exam 2023-24

मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग में MP Board की कक्षा 9वी एवं दसवीं की वार्षिक परीक्षा में वर्ष 2023-24 से CCLE अर्थात सतत एवं व्यापक अधिगम एवं मूल्यांकन प्रक्रिया प्रारंभ करने हेतु आदेश जारी कर दिए गए हैं । बहुचर्चित नई शिक्षा पद्धति NEP 2020 के अनुरूप स्कूली शिक्षा में व्यापक परिवर्तन किया जाना है . इस हेतु प्रत्येक राज्य इसे लागू करने हेतु क्रमबद्ध तरीके से विभिन्न तरह की परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए नई पद्धति को लागू करने का प्रयास कर रहा है । इसी क्रम में मध्यप्रदेश शासन ने महत्वपूर्ण निर्णय लिया है, जिसमें 24 अगस्त 2023 को मध्यप्रदेश शासन की स्कूल शिक्षा विभाग ने एक पत्र जारी किया है जिसमें उल्लेख किया गया है कि शिक्षण सत्र 2023 – 24 से कक्षा नवमी एवं दसवीं में सतत एवं व्यापक अधिगम एवं मूल्यांकन प्रक्रिया प्रारंभ कर दी जाएगी ।  CCLE के बारे में काफी दिनों से चर्चा की जाती थी कि व्यापक मूल्यांकन के माध्यम से ही समग्र मूल्यांकन किया जा सकता है  एवं पूरे वर्ष भर में एक ही परीक्षा ले जाने से बच्चों में बहुत अधिक तनाव होता था ।

इससे यह स्पष्ट हो जाएगा कि CCLE लागू हो जाने से  वर्ष में कई तरह की परीक्षाएं ली जाएगी और जिसमें सिद्धांत एवं प्रायोगिक परीक्षाएं जो वर्तमान में की जाती है ।  उन सभी का आकलन किया जाएगा वर्तमान परिस्थितियों में देखा जाए तो अभी सिर्फ बोर्ड परीक्षाओं में अर्थात कक्षा 10वीं और 12वीं में ही ccle  का weightage  मात्र 20% अलग-अलग विषयों में रखा जाता था और जो सिर्फ औपचारिक हुआ करता था किंतु वर्तमान सत्र 2023-24  से कक्षा नौवीं एवं 10 वी में सतत एवं व्यापक मूल्यांकन लिया जाएगा । इस आधार पर सिर्फ विषयों में ही नहीं बल्कि उनकी गतिविधियां होती हैं । विज्ञान  प्रयोग वाले विषयों में प्रयोगों के अलावा अन्य दूसरी सामान्य गतिविधियां जिसमें प्रार्थना सभा, संगीत, खेल और अन्य दूसरी तरह की क्रिएटिविटी शामिल की जाती है जिसको की मध्य प्रदेश एजुकेशनल कैलेंडर Academic Calendar  का विस्तृत वर्णन किया गया है इन सभी के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा ।

MP Board Best of Five Yojna Discontinue : Read this Letter

Best of Five Yojna
MPBoard Best of Five Discontinue

Second Major change : Double Option in Mathematics

एक अन्य महत्वपूर्ण निर्णय में मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने यह तय किया है कि वर्तमान शिक्षण सत्र 023- 2324 में कक्षा 9वी में एक विशेष विषय गणित को दो तरह से लिए जाने की सुविधा प्रदान की है ।  कक्षा 9वी में वर्तमान सत्र 2023-24 में सामान्य गणित एवं उच्च गणित का विकल्प दिया जा रहा है, जिसका नई शिक्षा पद्धति NEP 2020 में विस्तृत वर्णन दिया गया है । जो विद्यार्थी सामान्य गणित लेंगे वो गणित विज्ञान विषय की तरफ नहीं जाएंगे बल्कि विज्ञान विषय यदि कक्षा दसवीं के बाद जिन विद्यार्थियों को विज्ञान विषय लेना है उच्च गणित का विकल्प से परीक्षा देंगे और उसके बाद विज्ञान विषयों को कक्षा ग्यारहवीं से चयन कर सकते हैं । ठीक इसी तरह अगले सत्र 2024-25 में कक्षा दसवीं में भी इस गणित के 2 विकल्पों की सुविधा दी जाएगी अर्थात वर्तमान सत्र में 23 – 24 में कक्षा नौवीं को और अगले सत्र 2024-25  में दसवीं के विद्यार्थियों को यह सुविधा दी जाएगी । इस तरह स्पष्ट हो जाएगा कि जिन विद्यार्थियों को और अन्य सामान्य क्षेत्र में जाना है वह सामान्य गणित सकते हैं किंतु यदि जिन विद्यार्थियों को विज्ञान विषयों की तरह विशेषकर गणित विषयों का चयन चयन करना है उन्हें उच्च गणित का विकल्प दिया जाएगा ।

Third Major change : MP Board Discontinue Best of Five Yojna

मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने वर्तमान सत्र 2023-24 में CCLE कक्षा नवमी एवं दसवीं में लागू करने एवं गणित के 2 विकल्पों की सुविधा दिए जाने के पश्चात यह तय किया है कि कक्षा नवमी एवं दसवीं में जो वार्षिक परीक्षा होती है जिस में प्राप्त अंकों की गणना करने हेतु पूर्व से Best of Five Yojna लागू की गई थी जिसे पूरी तरह समाप्त किया जा रहा है अर्थात वर्तमान सत्र 2023-24 के पश्चात 2024-25 में जो परीक्षाएं होंगी अर्थात 2024-25 से कक्षा नवमी एवं 10वी में पूरी तरह बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति समाप्त कर दी जाएगी ।  MPBoard Best of Five Approach Discontinue क्योंकि वर्तमान में जो बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति है उसमें कोई भी ऐसे विषयों में से अधिकतम अंक प्राप्त अर्थात जिन विषयों में यदि कोई विद्यार्थी उत्तीर्ण हो जाता है तो उसे उत्तीर्ण मान लिया जाता था जबकि यह पद्धति समाप्त हो जाने से यदि कोई विद्यार्थी पांच विषय में उत्तीर्ण हो जाता है और एक विषय में उत्तीर्ण नहीं होता है तो उसे पूरक माना जाएगा और पूरक की परीक्षा के उपरांत उसे अनुत्तीर्ण माना जाएगा ।

2017-18 में लागू हुई थी Best of Five Yojna

Best of Five Yojna को माध्यमिक शिक्षा मण्डल मध्यप्रदेश ने 10वीं के परिणाम में सुधार करने के लिए 2017-18 में लागू किया गया था। इस योजना के तहत अगर विद्यार्थी छह विषयों में से पांच विषय में उत्तीर्ण हो जाता है और एक विषय में फेल होता है तो भी उसे उत्तीर्ण घोषित किया जाता था। इसमें सर्वाधिक अंकों वाले पांच विषयों के अंकों को जोड़कर परिणाम घोषित किया जाता था, जबकि सबसे कम अंक आने वाले छठवें विषय को रिजल्ट में शामिल नहीं किया जाता था।

Best of Five Yojna समाप्त करने के कारण

माध्यमिक शिक्षा मण्डल को 2020 में लोक शिक्षण संचालनालय(डीपीआइ) ने भी पत्र लिखकर इस योजना को समाप्त करने के बारे में कहा था। तब से इस योजना को समाप्त करने की प्रक्रिया पर विचार मंथन चल रहा था । यद्यपि इससे अधिक विद्यार्थी उत्तीर्ण तो होते थे लेकिन गणित , अंग्रेजी और विज्ञान जैसे आधुनिक युग में अत्यंत उपयोगी से छात्र दूर होते जा रहे थे जिसका दूरगामी दुष्परिणाम की संभावना दिखायी दे रही थी ।

Madhya Pradesh Government’s Transformative Decision in Education Sector:

Implementation of CCLE and Other Reforms The Madhya Pradesh government, through its School Education Department, has taken a significant step on August 24, 2023, bringing about crucial changes in the state’s school education system. These changes are aligned with the principles of the National Education Policy (NEP) 2020 and encompass three pivotal decisions: Starting from the current academic session of 2023-24, a continuous and comprehensive learning evaluation (CCLE) process will be introduced in the 9th and 10th grades. This aims to ensure holistic and consistent learning and assessment. In the current academic year 2023-24 for 9th grade and the subsequent academic year 2024-25 for 10th grade, students will be provided with two options in mathematics. The first option is General Mathematics, and the second option is Advanced Mathematics. With a commitment to the CCLE approach and the introduction of two mathematics options, starting from the next academic year 2024-25, Madhya Pradesh’s school education will discontinue the “Best of Five” method, which was previously used to calculate scores for 9th and 10th-grade annual exams. These two decisions are immensely significant. They emphasize the weightage given to CCLE, the provision of two mathematics options, and the discontinuation of the “Best of Five” approach for 10th-grade results from the next academic year. This marks a revolutionary transformation in the education landscape. The Madhya Pradesh government’s initiative reflects a deep commitment to aligning its education system with the principles of NEP 2020. The introduction of CCLE and the restructuring of mathematics options showcase the state’s dedication to fostering comprehensive and dynamic learning experiences for students. This transformative journey is set to empower students with skills that extend beyond traditional examination-based assessments and nurture holistic development in line with the NEP’s vision.

Transformative Education Reforms in Madhya Pradesh: Empowering Students for the Future

Introduction

In a significant stride towards enhancing its education system, the Madhya Pradesh government’s School Education Department announced a transformative decision on August 24, 2023. This decision reflects the state’s commitment to aligning its education system with the principles of the National Education Policy (NEP) 2020. The reforms introduced are aimed at bringing about substantial changes in the way education is imparted and evaluated, ultimately empowering students for a dynamic and evolving future.

The NEP 2020 Vision

The National Education Policy 2020 laid down a comprehensive roadmap for transforming India’s education landscape. With its emphasis on holistic development, skill-building, and adaptable learning approaches, the NEP outlined the need for a paradigm shift in the way education is approached. Madhya Pradesh’s recent decision to implement these transformative reforms is a testament to the state’s dedication to nurturing well-rounded individuals equipped for the challenges of the 21st century.

Decoding the Transformative Decisions

The Madhya Pradesh government’s recent decision encompasses three pivotal reforms that are set to reshape the state’s education system:

Continuous and Comprehensive Learning Evaluation (CCLE): Effective from the ongoing academic year 2023-24, the 9th and 10th-grade students will experience a progressive shift in the evaluation process. The introduction of CCLE aims to foster a culture of consistent and all-encompassing learning. This progressive approach is aligned with NEP 2020’s vision of moving beyond rote memorization to encourage deeper understanding and practical application of knowledge.

Multiple Mathematics Options: Acknowledging the diverse learning needs and career aspirations of students, Madhya Pradesh’s education system is introducing two options for mathematics in the curriculum. Starting from the current academic year, students in the 9th grade can choose between General Mathematics and Advanced Mathematics. This flexibility empowers students to tailor their learning journey based on their strengths and interests, aligning with NEP 2020’s focus on customization and skill development.

Revamping Assessment Methods: The most revolutionary change lies in the assessment methodology for 9th and 10th-grade students. The prevailing “Best of Five” approach, which considered the best scores out of five subjects for calculating final results, will be discontinued. This will take effect from the next academic year, marking a shift towards more comprehensive and consistent evaluation practices.

Implications of the Reforms

The introduction of these transformative reforms holds promising implications for students, educators, and the education system as a whole:

Holistic Learning: The CCLE approach promises to move beyond traditional exam-centric learning, encouraging students to engage with subjects in a more comprehensive manner. This shift aligns with NEP 2020’s emphasis on fostering critical thinking, problem-solving, and practical skills.

Customized Learning Paths: The provision of multiple mathematics options recognizes that every student is unique. By offering choices, the education system empowers students to follow learning paths that resonate with their interests, aspirations, and learning styles.

Skills for the Future: The reforms emphasize the importance of equipping students with skills that extend beyond academic knowledge. Practical application, analytical thinking, and adaptability are becoming increasingly vital in a rapidly changing world, and these reforms aim to cultivate these skills in students.

Aligned with NEP 2020: These reforms are not isolated decisions; they echo the core principles of NEP 2020. Madhya Pradesh’s commitment to implementing these reforms reflects its dedication to nurturing well-rounded individuals ready to contribute meaningfully to society.

The Road Ahead

Madhya Pradesh’s transformative reforms mark a pivotal moment in the state’s education journey. By embracing the NEP 2020’s principles and translating them into actionable changes, the state is signaling its intent to lead in educational innovation. However, successful implementation is crucial. Adequate training for educators, creating awareness among students and parents, and continuously adapting the curriculum to suit evolving needs will be essential for the reforms’ success.

In conclusion, the Madhya Pradesh government’s decision to adopt transformative reforms in its education system is a step towards building a future-ready generation. With CCLE, customizable learning paths, and a revised assessment approach, the state is taking strides in the right direction. By aligning with NEP 2020, Madhya Pradesh is poised to create an education ecosystem that prepares students not only for examinations but for life’s myriad challenges and opportunities. The journey towards holistic education has begun, and the impact of these reforms will undoubtedly shape the future of students in the state.

Frequently Asked Questions (FAQs) on Recent Decisions by the Education Department in Madhya Pradesh

  1. माध्यमिक शिक्षा मण्डल ने 24 अगस्त 2023 को कौन से महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं?

    मध्यप्रदेश शिक्षा विभाग ने 24 अगस्त 2023 को Best of Five योजना को समाप्त करने, सीसीएलई को लागू करने और गणित में दो विकल्प प्रदान करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया है।

  2. MP Board द्वारा सत्र 2023-24 में कक्षा 9 और 10 में कैसे बदलाव होंगे?

    वर्तमान सत्र से, कक्षा 9 और 10 में सतत और व्यापक अधिगम और मूल्यांकन अर्थात सीसीएलई प्रक्रिया लागू की जाएगी।

  3. कौन-कौन से गणित विकल्प विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध होंगे?

    सत्र 2023-24 में कक्षा 9 और अगले सत्र 2024-25 में कक्षा 10 में विद्यार्थियों को गणित में दो विकल्प मिलेंगे: सामान्य गणित और उच्च गणित।

  4. सीसीएलई क्या है और इसका शिक्षा प्रणाली पर क्या प्रभाव होगा?

    सीसीएलई अर्थात सतत और व्यापक अधिगम और मूल्यांकन, शिक्षा प्रणाली में सतत सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

  5. कक्षा 9 और 10 की वार्षिक परीक्षा में इन निर्णयों का कैसे प्रभाव होगा?

    सत्र 2024-25 से आगे कक्षा 9 और 10 की वार्षिक परीक्षा में पिछले सत्र के परिणामों पर आधारित रिजल्ट की गणना के लिए Best of Five योजना पूरी तरह समाप्त हो जाएगी।

  6. इन निर्णयों को शिक्षा क्षेत्र में क्रांतिकारी क्यों माना जा रहा है?

    ये निर्णय सीसीएलई को वेटेज देने, गणित में दो विकल्प प्रदान करने और Best of Five योजना को समाप्त करने के कारण शिक्षा क्षेत्र में महत्वपूर्ण सुधार और परिवर्तन लाने का कारण है।

What important decision has the Madhya Pradesh Education Department made on August 24, 2023?

  • The Madhya Pradesh Education Department has taken a significant decision on August 24, 2023, which includes discontinuing the Best of Five Scheme, implementing CCLE (Continuous Comprehensive Learning and Evaluation), and providing two options in mathematics.

2. What changes can be expected in the academic session 2023-24 for classes 9th and 10th?

  • Starting from the current academic session 2023-24, there will be continuous and comprehensive learning and evaluation (CCLE) in classes 9th and 10th.

3. Will there be any changes in the availability of mathematics options for students in the upcoming academic sessions?

  • Yes, in the current academic session 2023-24 for class 9th and the next session 2024-25 for class 10th, students will have two mathematics options: General Mathematics and Higher Mathematics.

4. What is the significance of CCLE in the education system of Madhya Pradesh?

  • CCLE, meaning Continuous Comprehensive Learning and Evaluation, ensures continuous and extensive learning and assessment. It plays a crucial role in shaping the education system by providing a comprehensive evaluation process.

5. How does the recent decision impact the annual examinations for classes 9th and 10th in the academic session 2024-25?

  • Starting from the academic session 2024-25, the Best of Five Scheme, which was used to calculate the results based on the scores obtained in the previous year’s exams, will be completely discontinued for the annual examinations of classes 9th and 10th in Madhya Pradesh.

6. Why are these decisions considered revolutionary in the education sector of Madhya Pradesh?

  • These decisions are considered revolutionary because they give weightage to CCLE, provide two mathematics options, and discontinue the Best of Five Scheme, bringing about significant changes and improvements in the education system of Madhya Pradesh.

You may missed this : Quaterly Exam

Visit this site for CCLE : “CCLE in Education”

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top